गर्भयात्रा + गर्भाहार

Rs. 1,760 Rs. 3,711

किसी भी स्त्री का स्वाभाविक स्वभाव है बेहना। एक नारी को अपने जीवन में तीन धाराओं में बेहते हुए देखा जा सकता है। एक प्रवाह रक्त का प्रवाह है (मासिक धर्म और प्रसव के दौरान), दूसरा प्रवाह आँसू का प्रवाह है (प्रसवपीड़ा के दौरान), और तीसरा प्रवाह दूध का प्रवाह है (प्रसव के बाद)। ये तीनों धाराएँ माँ से स्वाभाविक रूप से प्रवाहित होती हैं। रक्त का प्रवाह सत्य से जुड़ा है, दूध का प्रवाह प्रेम से जुड़ा है और आंसुओं का प्रवाह करुणा से जुड़ा है और इन तीनों का दिव्य संगम गर्भ की आनंदमय यात्रा है।

राम की मर्यादा, कृष्णकी लीला, बुद्ध की करुणा, महावीरकी अहिंसा, इसुका प्रेम, महम्मदका समर्पण और गांधी की निःस्वार्थ सेवा - ये सभी इस धरती पर हुई सत्य मातृ घटनाएँ हैं।

विशेषज्ञोंने तो आज साबित किया हे की सकारात्मक सोच क्या कर सकती है जो की हमारी संस्कृतिमे हजारों सालों पहलेही समझा दिया है कि सकारात्मक सोच एक स्वस्थ शरीर को आकार दे सकती है, एक बीमार को ठीक कर सकती है, और गर्भावस्था के दौरान सकारात्मक सोच एक स्वस्थ बच्चे के जन्म के लिए आवश्यक है।


पहले हम खुद को उत्कृष्ट बनाएं, अपने बच्चे अपने आप उत्कृष्ट होंगे। दुनियाकी हर मां को उत्कृष्ट होने का अधिकार है।
ये किताबें आपकी सकारात्मक सोच विकसित और मजबूत करने में मदद करती हैं।

गर्भ यात्रा | गर्भाहार 

1) गर्भयात्रा :
हार्ड कवर पुस्तक:
पन्ने : 267 ( सचित्र रंगीन पन्ने )
वज़न : 1.0 किलोग्राम.
साइज :‎ 9.5 x 1 x 7.5 इंच
  
  • प्राचीन भारतीय साहित्यिक वेदों, पुराणों और ग्रंथों का संपूर्ण प्रामाणिक सारांश।
  • मानव गर्भाधान की दैवीय प्रक्रिया को स्वयं समझना और पूर्ण हृदय से स्वीकार करना।
  • पहली पुस्तक जो अपनी उपयोगिता साबित करती है जिसमें प्रश्नावली का उत्तर पुस्तक शुरू होने से पहले और पुस्तक पढ़ने के दौरान पुनः उत्तर देना होता है।
  • सप्ताहवार विवरण शिशु के शारीरिक, भावनात्मक और आध्यात्मिक विकास पर शोध ज्ञान।
  • बच्चे की उसकी माँ से, माँ की अपने बच्चे से और डॉक्टर की दोनों से सप्ताहवार बातचीत।
  • पालन-पोषण के गुण और जीवन के सबक।
  • गर्भावस्था की पूरी यात्रा के दौरान 49 प्रेरणादायक, व्यावहारिक और योग्य ऐक्टिविटी।
  • पढ़ने के लिए एक किताब और साथ में काम करने के लिए एक किताब।
  • पुस्तक हिंदी, अंग्रेजी और गुजराती में उपलब्ध है
2 ) गर्भाहार : 
हार्ड कवर पुस्तक:
पन्ने : 172 ( सचित्र रंगीन पन्ने )
वज़न : 0.5  किलोग्राम.
साइज :‎ 9.5 x 1 x 7.5 इंच
  • महिलाकी कंसिव करनेकी शारीरक क्षमता पर आहार का प्रभाव और क्षमता बढ़ाने के लिए उचित आहार ।
  • गर्भधारण से पहले डिटॉक्स आहार का महत्व । 
  • गर्भावस्था के दौरान आहार का चयन सामान्य चिकित्सा समस्याएं: पीसीओडी, थायराइड, मोटापा, हाइपर टेंशन , डियाबीटीझ इत्यादि की विशेष समज । 
  • शरीर और पाचन तंत्र पर गर्भावस्था हार्मोन का प्रभाव ।
  • आहार की अद्भुत चेकलिस्ट । 
  • सात्विक भोजन के सरल नियम । 
  • त्रैमासिक एवं मासिक आहार टेबल सप्ताहवार एवं माहवार विशेष नुस्खे एवं लाभ।
  • प्रसवपीड़ा के दौरान आहार । 
  • डिलीवरी के पश्चयात आहार। 
  • आईयूआई और आईवीएफ प्रक्रिया के दौरान आहार
  • गर्भावस्था के बाद पाचन में सुधार के लिए नींद और व्यायाम का महत्व।


इस पुस्तकका श्रेष्ठ उपयोग करने के लिए : 

  • पुस्तक से आशीर्वाद प्राप्त करने के लिएहम आपसे अनुरोध करते हैं कि आप नीचे दिए गए बिंदुओं का पालन करें।

  • कृपया इस पुस्तक को साधारण  समझेंइसे एक पवित्र पुस्तक के स्तर पर रखेंइसे नियमित रूप से पढ़ेंइसके बारे में सोचें और इस पर ध्यान दें।

  • इस पुस्तक में दी गई प्रत्येक गतिविधि को पूरी ईमानदारी के साथ करने का प्रयास करें।

  • यह पुस्तक आपको यह समझने और महसूस करने में मदद करेगी कि आप अपने होने वाले बच्चे के पहले शिक्षक के रूप में एक प्रभावशाली व्यक्तित्व बना रहे हैं।

  • प्रत्येक गतिविधि एक स्पष्टीकरण से पहले होती हैजिसे भारतीय संस्कृतिपुराणों और वेदों के हजारों वर्षों के मनोवैज्ञानिक और आध्यात्मिक अध्ययन का सार कहा जा सकता है और इसे सावधानीपूर्वक पढ़े।

  • प्रत्येक गतिविधि के अंत मेंएक आत्म-अनुभव लिखने के लिए एक जगह होती हैजहाँ आप अपने अनुभव का एक फोटो लगा सकते हैं। तस्वीरें पोस्ट करने के लिए कोई नियम नहीं हैंआप जैसे चाहें फोटो पोस्ट कर सकते हैं।

  • पुस्तक में दिए गए अध्याय "गर्भावस्था से पहले या गर्भावस्था के दौरान के आध्यात्मिक अनुभवमें पूछे गए प्रश्नों के उत्तरों पर विचार करेंयदि आपके पास किसी अनुभव का उल्लेख हैतो आप पत्रफोनसंदेश या ईमेल द्वारा हमें भेजने का अनुरोध करें।

  • ग्रंथ के प्रारंभ में "गर्भरक्षा हेतु गर्भरक्षम्बिका स्त्रोत्रतथा "गर्भ रक्षा स्त्रोत्रदिए गए हैंआप उन्हें नियमित रूप से पढ़ सकते हैंक्योंकि यह आपकी गर्भावस्था यात्रा के दौरान आने वाली समस्याओं या बाधाओं को दूर करने में मदद करेगा।

इस पुस्तक के बारे में अपने विचार, राय और अनुभव हमें बेझिझक लिखें।

ईश्वर आपकी गर्भावस्था यात्रा को आनंदमय , अविस्मरणीय और यादगार बनाए।

Customer Reviews

Based on 41 reviews
98%
(40)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
2%
(1)
A
Amit .
Connecting Sanatani culture

Book is very useful for today generations to connect them with root . Well defined step by step method has been provided to produced better human for this planet

S
Seema Avhad

Great 👍

S
Surender Yadav
Good

Very good

S
SHIVAM .
Book

Book abhi mili nhi
7078861163

L
Laxmi Verma

Happy

You may also like

Recently viewed